ज़िन्दगी में सफ़लता हासिल करने का सबसे बड़ा राज़

महान लोग कैसे सफलता के शिखर पर पहुँचते हैं.

महान लोग कैसे सफलता के शिखर पर पहुँचते हैं.

शम्स खान

कहते हैं के आपको वही मिलता है जिसकी आपको ज़रूरत होती है, वो नहीं जो आप चाहते हैं। इसी wisdom में छुपा है आपकी सफलता का राज़। आइये जानते हैं हम अपने Dream और Ambition को कैसे अपनी ज़रूरत बना सकते हैं।

आपके मन में यह सवाल आ सकता है कि क्या हम अपनी ज़रूरत को manipulate कर सकते हैं? आखिर हमारी ज़रूरत तय कौन करता है? इसमें हमारा क्या role हो सकता है?

कहाँ से आती हैं हमारी धारणायें (beliefs) ?

हम खुद अपनी जरूरत तय करते हैं। हमारी धारणाएं यह तय करती हैं कि हमारी ज़िंदगी जीने में किन चीजों की ज़रूरत है। फिर यह सवाल उठना लाज़मी है कि हमारी धारणाएं आती कहाँ से हैं। क्या ये हमारा अटूट हिस्सा (integral part) होती हैं या हम इन्हें कहीं और से हासिल (acquire) करते हैं? और सबसे महत्वपूर्ण क्या हम इन्हें बदल भी सकते हैं?

हम जिस परिवार और समाज में जन्म लेते हैं हमारी धारणाओं में उसकी स्पष्ट छाप (clear imprint) होती है। हमारे आस पास रहने वाले लोग अपनी सोच (thought), अहसास (feeling), आदत (habit), व्यहवार (behavior) के ज़रिए हमारी सोच को दिशा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। फिर समाज अपने क़ायदे-कानून, सही-गलत की परिभाषा के ज़रिए हमारी समझ को विकसित करता है। यही सोच, समझ, वैल्यूमानसिकता (mindset) और अनुभव मिलकर हमारी धारणाएं (beliefs) बनाती हैं।

क्या आप समझते हैं कि आप अपनी ज़िंदगी में बहुत बड़ी सफलता हासिल नहीं कर सकते?  क्या आपको लगता है कि आपके पास अपने सपनों को साकार करने के लिए पर्याप्त संसाधन (resources) नही है? क्या आप सफल लोगों को किस्मत का धनी मानते हैं? क्या आपको लगता है कि आपके लिए circumstances favorable नहीं हैं इसलिए आप अपने ambition की दिशा में कोई initiative नहीं ले पा रहे हैं?

ये और इन जैसी दूसरी limited beliefs हमें according to potentials life जीने में सबसे बड़ी रुकावट हैं। जब हम सफल लोगों की धारणाओं के बारे में अध्ययन करते हैं तो पाते हैं कि वह खुद की potentials से पूरी तरह aware होते हैं और clear vision के साथ अपनी ज़िन्दगी को एक Goal और Mission में लगा देते हैं।

वह समझते हैं कि उनकी ज़िन्दगी की लगाम उनके हाथ में है उन्हें किसी outer resources का मोहताज नही बनाया गया है। Fear उनके कदमों में भी तरह तरह की बेड़ियां डालने की कोशिश करता है लेकिन वो खुद को समझाते हैं कि उनके लिए अपनी ज़िंदगी के सबसे बड़े मक़सद (life purpose) को हासिल न करने से बड़ा कोई और ‘डर’ नहीं हो सकता।

सफल लोग किस belief के साथ ज़िन्दगी जीते हैं?

सफल लोगों को खुद पर पूरा विश्वास होता है क्यूंकि वो समझते हैं की ईश्वर, अल्लाह, गॉड, इनफिनिट इंटेलीजेंस (infinite intelligence) जिस भी नाम से आप उस अल्टीमेट शक्ति को याद करते हैं, उसने इंसान को बहुत ही capable बनाया है। वो जानते हैं कि उनके अंदर infinite potentials हैं और वो जो भी ठान लें वो हासिल कर सकते हैं।

उन्हें पता होता है कि जब कभी वो अपनी आदत से अलग हट कर कुछ नया करेंगे या अपने Comfort Zone से बाहर कदम निकालेंगे तो शुरू में मुश्किल होगी लेकिन वह समझते हैं की इसके बिना उनका Development मुमकिन नहीं। अगर circumstances थोड़ी देर के लिए उन्हें हिला भी दें तो भी वो पूरे Confident होते हैं कि उसपर जल्द ही काबू पा लेंगे। 

सफल लोग failure को challenge की तरह लेते हैं और उन्हें इसमें कोई संदेह नही होता कि यह मुश्किलें उन्हें निखारने के लिए आती हैं। महान और सफल लोग अपने Interest के हिसाब से उस एक field को चुनते हैं फिर उसमें अपने लिए एक goal set करते हैं और उसमें खुद को पूरी तरह लगा देते हैं। यही उनकी ज़िंदगी का मिशन और सबसे बड़ी जरूरत होती है।

Positive mindset इन महान लोगों को ऐसी empowering beliefs देती है जो उनके लिए कामयाबी के दरवाजे खोल देती है। जब वो पूरे commitment और संकल्प determination के साथ अपने मिशन में लग जाते हैं तो ऐसे ऐसे कारनामे कर गुज़रते हैं कि दुनिया भौचक्की रह जाती है। इनमे से बहुत से कारनामे तो ऐसे होते हैं जो दुनिया को ही बदल देते हैं।

दुनिया उन्हीं का गुणगान करती है जो हालत से समझौता नहीं करते।

महात्मा गांधी के लिए ज़ुल्म के खिलाफ आवाज़ उठाना और इंसानों को उनका मूल अधिकार (basic right) दिलाना ही ज़िन्दगी का मिशन था। उन्होंने साउथ अफ्रीका में अपने प्रवास के दौरान और फिर भारत लौटकर इसके लिए अपना सब कुछ दावँ पर लगा दिया और आखिरकर अपने कुशल नेतृत्व के दम पर भारत को अंग्रेजों की ग़ुलामी के चंगुल से निकाल ही लिया।

एडिसन का दस हज़ार बार नाकाम होना भी उन्हें इलेक्ट्रिक बल्ब बनाने के अपने मकसद से डिगा नही पाया। गया, बिहार के रहने वाले दाशरथ मांझी ने अकेले ही 22 वर्षों की अनथक मेहनत के बल पर सिर्फ छेनी हथौड़े (chisel-hammer) से पहाड़ को काट कर रास्ता बना दिया था।

होंडा मोटर्स (Honda Motors) के मालिक, सोइचिरो होंडा (Soichiro Honda) ने एक मैकेनिक के तौर पर अपने करियर की शुरुआत की और बहुत ही कठिन चुनौतियों का सामना करते हुए अपने दम पर ही दुनिया की सब से बड़ी मोटर कंपनियों में से एक खड़ी कर दी। College dropout होने और आर्थिक तंगी के बावजूद स्टीव जॉब्स (Steve Jobs) ने पर्सनल कंप्यूटर (personal computer), आईपॉड (iPod), आईपैड (iPad), आईफोन (iPhone) जैसे गैजेट्स बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। उन्होंने Apple सहित कई मल्टीनेशनल कंपनियों की नीव रखी।

निक विजोकीक, जिनके चारों हाथ पैर नही हैं, अपने यूट्यूब (YouTube) वीडियो मैसेज ‘ज़िंदगी से प्रेम कीजिये और इसे पूरी तरह जीइये (‘love life and live without limit’) के ज़रिये लाखों लोगों को inspire कर रहें हैं।

हैरी पोर्टर सीरीज से अरबों की कमाई करने से पहले J K Rowling मुश्किलों से भरी एक आम ज़िन्दगी जी रही थीं। मशहूर अमरीकी टॉक शो होस्ट, Oprah Winfrey का शुरुआती जीवन Mississippi, America के देहाती इलाके में बेहद ग़रीबी में कटा। आज वो दुनिया की सबसे शक्तिशाली औरतों में से एक हैं।

अगर इनमे से किसी ने भी challenging circumstances से समझौता किया होता या resources की कमी के चलते अपने सपनों को जीने में कोताही की होती तो आज दुनिया उनके कारनामों से वंचित होती।

क्या आप अपने potentials के हिसाब से सम्पूर्ण जीवन नहीं जीना चाहेंगे? क्या आप नहीं चाहेंगे दुनिया को कुछ बेहतर कर जाएं या समाज की बेहतरी के लिए अपना योगदान दें? क्या आप ऐसी ज़िन्दगी नही चाहते जिससे लाखों लोग inspire हों?

आप भी सफल लोगों के Mindset को अपना कर अपना नाम इतिहास में दर्ज करा सकते हैं।

आपके अंदर भी potentials की कोई कमी नही। किसी न किसी area में आप भी बेहद talented हैं। अपने Natural Gift को ढूंढ कर उसे निखारिये। इसमें Resources, age, opportunities या किसी और चीज़ की कमी मायने नहीं रखता जो चीज़ मायने रखती है वो है आपका Mindset।

सफल लोगों के empowering belief को अपना कर आप खुद के लिए सफ़लता का रास्ता खोल सकते हैं। आप जो भी हासिल करना चाहते हैं उसे ज़िन्दगी का मिशन बना लीजिए। इसे अपने दिलो दिमाग में ऐसा बसा लीजिये के सोते जागते, दुनिया के हर रस्म निभाते यह आपको बेचैन करती रहे। पूरी लगन और आत्मविश्वास के साथ अपने सपने से जुड़े लक्ष्यों की तरफ कदम बढ़ाइए। नतीजे की परवाह किये बिना बस अपना श्रेष्ठ देने की कोशिश कीजिये, फिर देखिए आप खुद भी अपने प्रदर्शन (performance) से हैरत में होंगे।

सपनों के लिए ये जुनून इसे आपकी ज़रूरत बना देगा, फिर आपके लिए सपनों को हासिल करना बहुत ही आसान होगा।

(Shams khan thenewsweb.in के contributing editor हैं, साथ ही human potentials में गहरी रुचि रखते हैं और इस क्षेत्र में हो रहे developments से अवगत रहते हैंl यह लेख JanOpinion द्वारा 2019 में पहली बार प्रकाशित किया गया था, मौजूदा challenging परस्थिति में इस लेख के relevance को देखते हुए थोड़े changes के साथ इसे फिर से प्रकाशित किया जा रहा है । आप अपना feedback लेखक के Facebook (Shams Khan), Instagram (shamskhan186) और twitter (shamskhanpatna) accounts पर दे सकते हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *